समय का कोरा ज्ञान एक Emotional Motivational कहानी | Samay Ka Kora Gyaan Ek Emotional Motivational Story

समय का कोरा ज्ञान एक emotional motivational कहानी | Samay Ka Kora Gyaan Ek Emotional Motivational Story
समय का कोरा ज्ञान एक Emotional Motivational कहानी | Samay Ka Kora Gyaan Ek Emotional Motivational Story 
मै समय हूँ !  अंग्रेजी में मुझे 'टाइम' कहते है | इस भौतिक प्रदूषित तनाव वातावरण में मेरे लिए भी विकट मंदी का दौर चल रहा है | विजय भैया के पास अपने वृद्ध बीमार पिताजी को डॉक्टर के पास ले जाने के लिए समय नहीं है | कमलाबाई को एक काम और बता दिया, तो 'अभी टाइम नहीं है, मेमसाहब.....' कहकर चल देगी |रचना जी के पास भाई की तबियत पूछने के लिए समय नहीं है | युवराज क्लब - पार्टी से आकर रात दो बजे नींद की गोली खाकर सोया है, इसलिए उसके पास सुबह प्राणायाम करने के लिए समय नहीं है || 
मंझली बेटी सेहलियो से मोबाइल फ़ोन पर इतनी अधिक डूबी रहती है की उसे पापा के दुखते सिर या मम्मी के के घुटने के दर्द से छटपटाने पर भी दो घडी बात समय करने का समय नहीं है | चेतन मोटर बाइक पर लड़कियों के पीछे चक्कर काटने में इतना पागल है की उसे यह भी ध्यान नहीं है की सुबह बहन ने शाम को मंदिर जाने के लिए कहा था | डॉली मेमसाहब को किटी पार्टी में जाना है, इसलिए बच्चों के स्कूल से लौटने वाले समय तक वह नहीं रह सकती |

समय का कोरा ज्ञान एक emotional motivational कहानी | Samay Ka Kora Gyaan Ek Emotional Motivational Story 

शेखर साहब ऑफिस में ही डूबे ही रहते है, कि किसी प्रकार इस वर्ष चीफ इंजीनियर बन जाएं, इसलिए उन्होंने एक सप्ताहा से अपने बच्चों तक से बात करने का Time नहीं निकाला | बेटा, बहू, पोता और भरापूरा परिवार होते हुए भी बूढी माँ सबके हाथ जोड़ती रहती है कि किसी के पास Time हो तो उसका टूटा चश्मा ठीक करवा दे | देखा आपने,सच कड़वा लगा ना | पर बचपन में स्कूल की किताबो में पढ़ा था कि समय डॉकटर है, दवा है , मरहम है, मूल्यवान है और बीता हुआ Time लौटकर नहीं आता, भूल गए क्या आप ! Time यानी मै निरंतर गतिमान हूँ | गांधी, टेरेशा, नेहरू, शिक्षक, ग्रहणी, छात्र, पुजारी, बाई, मजदूर, क्लर्क,सी.ऍम.डी.सभी को प्रकृति सामान रूप से प्रतिदिन 24 घंटे ही देती रहेगी | |
इस नशवर संसार में हर मनुष्य के जीवन में मेरा कॉल निश्चित है | में सबको सुलभ हूँ यह आप पर निर्भर है कि मेरा सदुपयोग करते हो या दुरूपयोग ! मुझ (Time पर) पर कई पुस्तके लिखी जा रही है | मुझ पर लिखी पुस्तके आजकल 'हॉट केक' की तरह खरीदी जा रही है पर उन्हें पर उन्हें पढ़ने का समय कहा है किसी के पास!वे अलमारी के पिंजरे में कैद होकर रह जाती है ||

विधार्थियो ! समय सारणी बनाकर हर विषय को पढ़ो | मेरा दुरूपयोग Tv.,Computer, Game, or Mobile पर मत करो,पढाई पर ध्यान दो, पूरा कोर्स करो, नोट्स बनाओ | मेरा प्रात:कॉल तुम्हारी Study के लिए बहुत ही अच्छा है, परीक्षा में भी मेरा पूरा ध्यान रखो | जितना पूछा है, उतना ही लिखोगे तो मेरी कमी कभी महसूस नहीं होगी | उतर एक बार  स्वंय चेक कर लो | मुझ  पर निंयत्रण अपने पास रखो | पौष्टिक आहार लो,स्वास्थ्य ठीक रखो, अच्छे कार्य में मुझे लगाओ,अच्छी पुस्तकें पढ़ो,रचनात्मक कार्य करो,अच्छे गुण सीखो, हर Class मै तुम्हें एक बार ही उपलब्ध हूँ | मुझे नष्ट करोगे तो पीछे रह जाओगे | चरित्र, स्वास्थ्य, पढाई, इन तीन मुख्य बातो पर ध्यान दोगे तो मै तुम्हे कम Time में भी अच्छे, मीठे व स्वादिष्ट फल दूंगा ||

गृहणियों ! तुम पुरे परिवार की सेवा में डूबी रहती हो, तुम स्वास्थ्य के लिए मुझे समझो | आधा घंटा मनपसंद संगीत - साहित्य में डुबो | स्वास्थ्य ठीक रखो,संतुलित आहार लो, तुम्हे भी मै पूरे 24 घंटे सुलभ हूँ | अपने तन- मन को स्वस्थ रखने के लिए अपनी व्यस्त दिनचर्या में एक मुझे भी तो दो !
कामकाजी महिलाओं ! स्कूल एव घर गृहस्थी की दो नावों पर पैर रखकर तुम निशचय ही तन से थक जाती हो मै तुम्हारी पकड़ में ही नहीं आ पाता हूँ | मेरी कमी का सबसे अधिक रोना तुम ही रोती हो !क्यों इतनी तनाव ग्रस्त रहती हो ? तुम्हें कई काम समांतर करने होते है, फिर भी स्कूल में भी डांट खाती हो एव घर में भी आँसू बहाती हो, तन को गलाती हो और तुम्हारे छोटे बच्चे क्रेच में पलते है ||
तुम्हारी अपनी ही संतान तुम्हें 'मिस' करती है | मै तुम्हारे लिए बहुत मूल्यवान हूँ | वेतन के बजट के समान तूम स्वंय को भी Time दो, तुम तन-मन से स्वस्थ रहोगी और तभी दोनों नावों को सही मंजिल तक पंहुचा सकोगी | अपने लिए सोचो एव करो भी |

हे शक्तिमान पुरुष ! पत्नी, बच्चो को मेले में ले गए क्या ? बच्चों के School की Copy  देखी क्या ? युवा पुत्र-पुत्री के Mobile में Save हुए Numbero  में से तूम उनके कितने Friends से परिचित हो ? Wife के Birthday पर क्या तुम उन्हें मुझे 24 घंटे का उपहार देते हो ? क्या रात्री-भोजन पूरा परिवार एक साथ करता है ? घर-परिवार को एक घंटा ही सही Time जरूर दो | प्रात:कॉल घूमने जाओ,मै तो चलता रहता हूँ | मुझे बांध नहीं सकते पर सतुलित आहार के समान अपने जीवन में मेरा भी संतुलन रखो |
शारद्य वृद्धजन ! आपकी समस्या अलग है आपके समझ में नहीं आता की आप मेरा क्या करे, आप सोचते है की दिन में 24 नहीं 12 घंटे भी बहुत है | जीवन की संध्या में आप समाज सेवा करिए, छोटे बच्चों को पढ़ाइये, अच्छी पुस्तके पढ़िए, लिखने में रूचि हो तो लिखिए,योगपरणयम सिखाईय, बेटे-बहू, पुत्री-दामाद, के कुछ काम स्वंय करके उन्हें राहत पहुचाइए | समर्थ हो, तो परिवार के छोटे बच्चों के लिए ट्यूटर बन जाईये | गृहस्थ सेवा व्यवसाय में जो काम नहीं कर पाये, उन्हें अब करिए, फिर देखिए आप मुझसे ऊबेंगे हीं अब मेरा महत्व समझोगे | मुझे स्वीकार करेंगे | हे पाठक-पाठिकाओं ! मै Creadit Card पर उधार नहीं मिलता ! मै Sell में Discount पर भी नहीं मिलता ! मै Exchange Offer में भी नहीं मिलता, मै एक के साथ दूसरा Free नहीं मिलता  अपनी प्राथमिकता एव आवश्यकता अनुसार आप स्वंय मेरा बजट बनाय | जीवन को कर्फ्यू मत बनाइए, पर  निरर्थक भी मत गवाइए मुझे ||
व्यस्त रहिए, पर अस्त-व्यस्त मत रहिए | चिंतन-मनन करके सतुंलित जीवन जीने के लिए मेरा सदुपयोग करेंगे तो मै जितना आपके हिस्से में आया हूँ, जीवन के सूर्यास्त के Time आप यही कहेगे कि Time को मैने खोया नहीं, Time से मैने पाया ही पाया है ! मुझे स्वीकार कीजिए मै समय (Time) तो हमेशा आपके साथ था,
साथ हूँ, साथ रहूँगा,

कोरा ज्ञान एक emotional motivational कहानी | Kora Gyaan Ek Emotional Motivational Story 

मित्र आप प्रेरणादायक चखडी गर्व वाले बहुत से लोग हैं, हमें ऐसी शिक्षा मिलती है, जो केवल किताबों तक ही सीमित है। आइए आज इस विषय पर विस्तार से बात करें। इससे पहले एक कहानी इस विषय को खूबसूरती से बनाती है।
एक बहुत बड़ी पांडित जी है, जिसकी प्रसिद्धि दूर और फैली हुई है। लोग अपने भाषण सुनने के लिए दूर और चौड़े से आते हैं। पांडित जी इस बात पर गर्व करते हैं। वे हमेशा उनकी प्रशंसा सुनना पसंद करते हैं। बार सावन के महीने में, एक गांव को भागवत कथा करनी होती है । पांडित जी का गांव और उस गांव के माध्यम से एक बड़ी नदी बहती थी जिसे नाव के दवार पार करना पड़ता था। पंडित शाम के समय नदी पर पहुंचे। Voyager चलती नाव कहा जाता है कि मैं जल्दी से दो बहुत महत्वपूर्ण चीजें नदी। नाविक अपना हाथ बोलता है और कहता है, 'कुछ लोग आएंगे और मुझे थोड़ा फायदा मिलेगा।' लाल आँखों से बात करते समय पंडित जी क्रोध की बात करते हैं; तुम वह व्यक्ति हो जो मैं हूं। मेरा छोटा समय भी बहुत मूल्यवान है। हम मुझे नदी पर अकेले बना देंगे, इसलिए मैं तुम्हें बहूत सारा किराया  दूंगा और मैं आपको कई चीजें दूंगा, जो तुम्हारा उद्धार होगा। अल्लाह ने एक हाथ जोड़ा है और कहा है कि पंडित जी ने पश्चिम में चौड़ाई कम कर दी है और बड़ा हो गया है। इस तरह, नदी में नाव डालने की सलाह नहीं दी जाएगी। सुनो, पंडितजी बहुत परेशान हैं। क्रोध से बाहर निकल जाओ कि अब एक मूर्ख कॉलर मुझे नदी पर मुझे शांत करने के लिए सिखाएगा, अन्यथा आपके पास खैर नहीं है। पंडित जी बहुत गर्व के साथ नाव पर बैठे हैं। कुछ समय बाद, नाविक से पूछो कि आपका नाम क्या है। अल्लाह जी भोला  नाम है। तब पंडित जी चुप हो जाता है। कुछ समय बाद, पंडित जी-भोला तूने कितनी शिक्षा प्राप्त की  है। मल्लाह-पंडित जी मैंने बच्चे का चेहरा भी नहीं देखा है। पांडिजी-मूर्ख, आपके जीवन का एक तिहाई बर्बाद हो गया। तब पंडित जी- "यह सीखने की बात नहीं है, लेकिन मेरे जैसे विद्वान आपको प्रवचन सुनना है।
इस समय नाव नदी के बीच में आई और सभी परिवेश उल्टा हो गए। अल्लाह ऐसा लगता है जैसे की भारी बारिश हुई है। सच में, बादल तेजी से घूमता है और अंधेरा चारों ओर उड़ता है। भारी हवाओं के साथ, भारी बारिश शुरू होती है और नाम में पानी भरना शुरू कर देती है। Voyager - "ऐसा लगता है कि नदी हमें गोद में ले जाएगा, यह तैर जाएगा।" इसे सुनने पर, पंडित जी बहुत परेशान हैं, लेकिन मैं बिल्कुल तैरता नहीं हूं। मल्लाह बोलता है - "पंडित जी आपका पूरा जीवन खराब हो  गया है।" इस तरह, नाव नदी में तैरती है। अल्लाह और पंडित जी दोनों नदी में गिरते हैं। अल्लाह के लिए नदी में तैरना एक बड़ी बात होगी। लेकिन पंडितजी की हालत खराब हो रही है।  लेकिन नाविक की तरह, पंडित को रास्ते पर बढ़त मिलती है किनारे पर पहुँचकर मल्लाह --"पंडित जी ऐसा कोरा ज्ञान किस काम का जो समय आने पर साथ न दे सके।पंडित जी को आज सबसे बड़ी सीख मिली थी।जिसे वो चुपचाप सुनते रहते हैं।

!! Motivational कहानी ये भी पढ़े !!

Last Word :- 

हम उम्मीद करते है की आपको 
समय का कोरा ज्ञान एक Emotional Motivational कहानी ( Samay Ka Kora Gyaan Ek Emotional Motivational Story ) ये लेख पसंद आया होगा | 
अपने विचार हमारे साथ जरूर शेयर करे | 

धन्यवाद 

Post a Comment

0Comments