सेंसिटिव लोगों का जीवन बदल सकती है यह बातें ⇨ Sensitive Logo ka Jeevan Badal Sakati Hai Yah Baate

Share:


सेंसिटिव लोगों का जीवन बदल सकती है यह बातें ⇨ 

सेंसिटिव लोगों का जीवन बदल सकती है यह बातें ⇨ Sensitive Logo ka Jeevan Badal Sakati Hai Yah Baate
Sensitive Logo ka Jeevan Badal Sakati Hai Yah Baate


अकसर लोग समझते हैं कि सेंसिटिव (Sensitive) लोग कमजोर या भावुक होते हैं।जबकि यह सच नहीं है। सेंसिटिव  (Sensitive) लोग मजबूत होते हैं। Only ज़िन्दगी की तरफ उनका नजरिया कुछ अलग होता हैं।जानिए ऐसी ही कुछ बातों के बारे में जिन्हें ध्यान में रखने से सेंसिटिव (Sensitive) लोग अपने जीवन को पूरी तरह से बदल सकते हैं। "Sensitive Logo ka Jeevan Badal Sakati Hai Yah Baate"

सेंसिटिविटी (Sensitivityकोई मानसिक रोग नहीं है लेकिन यह टेम्परामेंट है।इसलिए आप ओर केवल आप खुद की Help कर सकते हैं।किसी दूसरे व्यक्ति का Wait ना करें जो आपको सेंसिटिविटी (Sensitivity) की Problem से बाहर निकालने में Help करें।

Time Time पर खुद बताते रहे की आप कोई चोट या फ़्रॉड नहीं है। सेंसिटिविटी (Sensitivity) कोई बीमारी नहीं है, इससे बाहर निकलना आसान है।यह कोई ऐसा व्यवस्था भी नहीं है। जिसके बारे मे दूसरों से चर्चा न की जाए  हो सकता है कि आपको कई बार अकेला-अकेला महसूस हो। जबकि ऐसा सोचने की कोई आवश्यकता नहीं है। World में बहुत सारे लोग हैं जो सेंसिटिविटी (Sensitivity) के शिकार हैं।

अच्छी बात यह है कि हर व्यक्ति अपनी Help खुद कर सकता है। कोई दूसरा व्यक्ति आपकी मदद के लिए आगे नहीं आता है। कई बार सेंसटिव (Sensitiveलोग परिस्थितियों को देख कर डर जाते है जबकि उन्हें हर परिस्थिति में कुछ न कुछ Positive  Research चाहिए। अगर आप सोचेगे की दुनियां एक खतरनाक जगह है। तो आपके दिमाग को सब खरतनाक चीज़े दिखाई देंगी।

अगर आप सोचने लगेगे की दुनिया एक खूबसूरत, प्यार भरी जगह है। तो आप को सब वैसे ही नज़र आएंगे आपने कुछ गलतियां की होगी। अब वक़्त है कि उन गलतियो में से कुछ अच्छा ढूंढ़ने का। इस से सोच सकारात्मक बनेगी। परिस्थितिया चाहें जैसी भी हो, लेकिन खुद के साथ हमेशा प्यार से ओर इज्जत के साथ पेश आए। इससे सोच बदलना आसान होगी।

हर चीज में अच्छाई नज़र आएगी। हेल्दी habits की तलाश करें। आदतें जितनी अच्छी होंगी, ज़िंदगी भी उतनी ही खूबसूरत बनेंगी। अपनी जरूरतों के अनुसार आदतों को अपनाएं, सकारात्मक नतीजे मिलेंगें। कभी खुश कभी ग़म की तरह हमारा जीवन भी सुख दुःख का मेल मिलाप है। इसमें सफलता के रूप में खुशियां है, वही असफलता, अवसाद ओर अशांति के रूप में दुःख का दखल भी हैं।

यदि आप ऐसा सोचते हैं कि आपके जीवन मे दुःख और संघर्षों की अमावस कभी पूणम की खुशियों में नहीं बदलेंगी तो आपकी यह सोच ज़रा भी उचित नहीं है।यदि मन मे आशा और उम्मीदें हैं तो आज नहीं तो कल हमारे जीवन से दुःख के काले बादल जरूर छंट जाएंगे।


 सही मार्गदर्शन हैं जरूरी:⇨

Sensitive Logo ka Jeevan Badal Sakati Hai Yah Baate

सेंसिटिव  (Sensitive) लोग अपनी help खुद कर सकते है, पर यदि कभी उन्हें लगे कि वे अपने आप को असहाय महसूस कर रहे है, तो उन्हें चाहिए कि वह सकारात्मक लोगों के सानिध्य में रहे व सही मार्गदर्शन ले कर उस पर अमल करें।


 कमजोरी को बनाएं ताकत:⇨

Sensitive Logo ka Jeevan Badal Sakati Hai Yah Baate

हम सब परिपूर्ण नहीं है, ओर कोई इंसान हो भी नहीं सकता । यदि हम अपनी कमियों का ढिंढोरा न पिटते हुए उसे ही अपनी ताक़त बना ले, तो कमजोरिया हमारी ताकत बनते हुए हमें शिखर पर ले जा सकती है। "Sensitive Logo ka Jeevan Badal Sakati Hai Yah Baate"


 काउंसिल है जरूरी:⇨

Sensitive Logo ka Jeevan Badal Sakati Hai Yah Baate

यदि आप अपनी उलझनों को स्वयं सुलझाने में मुश्किल महसूस कर रही है, कोई बात नहीं परेशान न हो, आप तुरंत गुरु, किसी दोस्त, रिश्तेदार जिसे आप अपना करीबी समझते है, उस से अपनी उलझन की चर्चा करें। ध्यान रहें कि वह इन बातों का ढ़ोल न पिटे। एक साइकेट्रिस्ट होने के नाते मैंने कई बार देखा है। 

 जिसका हल आप स्वयं नहीं निकाल पाते, न ही घर के लोगों की सलाह आप सकारात्मक रूप से ले पाते है, तो उस समय एक काउंसलर चाहें वह कोई भी हो, उसकी सलाह सीधे आपके मानस पटल पर असर करती है ओर आप उसकी बात मानने लगते हैं।


अपनी Problem Share करें:⇨

Sensitive Logo ka Jeevan Badal Sakati Hai Yah Baate

संसार के हर प्राणी के पास Problems है। यदि आप हल्का रहना चाहते है तो थोड़ा अंतर्मन को खोलें और अपनी Problem Share करें। हो सकता है जहाँ आपकी सोच नहीं पहुँच पाई है , दूसरा आपको उस Problems से आसानी से निकाल पाये। मौत को गले लगाना किसी भी Problems का हल नहीं होता है। और न ही उधेड़बुन के साथ जीना ही किसी भी तरह उचित कहा जा सकता है। 

खुल कर कहे दिल की बात:⇨

Sensitive Logo ka Jeevan Badal Sakati Hai Yah Baate

    यदि आप अपनी बात किसी के साथ Share करे तो खुल कर करें। सहज रूप से अपनी बात उन को बताएं ताकि मिल कर उस का हल किया जा सके। माता - पिता को चाहिए की घर में ऐसा मौहोल बनाएं जिसमे बच्चों से उनके हर Topic पर बात हो सके, खुली बहस हो। ये युवा अपने माता पिता से अपने दिल की बात या परेशानी नहीं कह सकते है। 

तो उन्हें अपनी परेशानी के लिए तुरंत संबंधित चिकित्सक से या अपने Friends से सलाह लेनी चाहिए।  कहा जाता है की स्वाभाव के बस में सब है। यदि हमारा स्वभाव तंग कर रहा है। और हमारे अपने लोगो को भी तंग कर रहा है। हमसे दूर हो रहा है। तो Time रहते अपने स्वभाव में बदलाब ले आए। अपने हमसे दूर हो जाये , उस से पहले उन्हें थाम ले। 

यह भी पढ़े:⇨



Final Word:⇨

दोस्तों मै उम्मीद करता हूँ की आपको 
सेंसिटिव लोगों का जीवन बदल सकती है यह बातें 
[ Sensitive Logo ka Jeevan Badal Sakati Hai Yah Baate ]
यह लेख आपके लिए Helpfull साबित होगा अपने विचार Comment Box में दे। 

Thanks